बैट्समैन कितनी तरह से आउट हो सकता है?

South Africa vs Sri Lanka Match Prediction

क्रिकेट में बैट्समैन के आउट होने का मतलब है की वो मैच की इस पारी में और बैटिंग नहीं कर सकता है। उसकी जगह दूसरा बल्लेबाज़ बैटिंग करेगा। ये सिलसिला तब तक चलेगा जब तक टीम के 11 में से 10 बैट्समैन आउट न हो जाये। सवाल ये है, एक बैट्समैन किस तरह से आउट हो सकता है।

एक बार बैट्समैन आउट हो जाये तो वो आगे रन नहीं बना सकता और फील्डिंग टीम मैच पर पकड़ बना कर बैटिंग टीम को ज़्यादा रन बनाने से रोक सकती है

1) Law 32: बोल्ड

अगर बॉलर की लीगल बॉल विकेट पर आ कर लगती है और कोई भी दोनों या एक बैल विकेट पर से गिर जाये। चाहे बॉल सीधे आ कर विकेट पर लगे या बैट्समैन के बैट या शरीर से टकरा कर विकेट पर लगे तो उसे बोल्ड आउट कहते है। 1877 से अभी तक टेस्ट मैच में 21% बैट्समैन बोल्ड आउट हुए है।

जानने के लिए क्लिक करे अगर आईपीएल नहीं हुआ तो क्या होगा

2) Law 33: कैच आउट

जब एक बैट्समैन बॉलर की लीगल बॉल को हिट करता है, और बॉल सीधे फील्डर के हाथो में आ जाती है तो बैट्समैन को आउट करार दिया जाता है। बैट्समैन कैच आउट 3 तरह से होते है। पहला, फील्डर द्वारा कैच होने पर। दूसरा, विकेटकीपर द्वारा कैच लेने पर। तीसरा, बॉलर द्वारा अपनी ही गेंद पर कैच लेने पर। 1877 से अभी तक टेस्ट मैच में 56% खिलाड़ी ऐसे ही आउट हुए है।

3) Law 34 : हिट दी बॉल टूवाईस यानी बॉल को बैट से दो बार हिट करना

अगर बैट्समैन जानभूझ कर बॉल को बैट से दो बार हिट करता है तो उसे आउट करार दिया जाता है। 1877 से अभी तक टेस्ट इतिहास में कोई बैट्समैन इस तरह से आउट नहीं हुआ है।

जानने के लिए क्लिक करे इंडियन प्रीमियर लीग और पाकिस्तान सुपर लीग में से सबसे ज़्यादा कौन बड़ी है।

4) Law 35: हिट विकेट

जब एक बैट्समैन बैटिंग करते हुए अपना बैट या अपनी बॉडी का कोई हिस्सा या हेलमेट विकेट पर मार देता है तो उसे हिट विकेट करार दिया जाता है।

5) Law 36: लेग बिफोर विकेट यानि पगबाधा

जब बॉलर की लीगल बॉल बैट्समैन के बैट या ग्लोव से बिना टच हुए पैड या पैर या किसी भी शरीर के भाग से लगती है, अगर अंपायर ये मानता है की अगर खिलाड़ी से ना टच हुई होती तो यक़ीनन विकेट से बॉल टकरा जाती तो अंपायर उसे पगबाधा आउट घोषित कर देता है। पर इसके लिए कुछ शर्तो का पूरा होना जरुरी है। जैसे की बॉल का टप्पा कहा पड़ा है, जब बॉल बैट्समैन से लगी तो वो क्या विकेट की लाइन में था। 1877 से अभी टेस्ट मैच 15% पगबाधा आउट हुए है।

6) Law 37: ऑब्सट्रक्टिंग दी फील्ड

जब एक बैट्समैन जानबूझ कर फील्डिंग में बाधा उत्पन्न करता है तो बैट्समैन को अंपायर आउट करार कर देता है।

जानने के लिए क्लिक करे IPL के ऐसे रिकॉर्ड जो कोई भी खिलाड़ी नहीं तोड़ना चाहेगा

7) Law 38: रन आउट

जब एक बैट्समैन रन लेते हुए क्रीज़ में, फील्डर द्वारा विकेट बिखेर देने से पहले पहुंचने में विफल होता है तो उससे रन आउट माना जाता है। रन आउट पिच के दोनों तरफ हो सकता है। रन आउट के लिए फील्डर के संपर्क में बॉल का आना जरुरी है। कई बार बैट्समैन के स्ट्रैट ड्राइव से बॉल सामने विकेट से टकरा जाती है और नॉन स्ट्राइकर बैट्समैन क्रीज़ के बाहर होता है ऐसे में उसे रन आउट नहीं दिया जायेगा। पर ऐसे में अगर बॉल का संपर्क अगर बॉलर से हल्का सा भी जायेगा तो बैट्समैन रन आउट माना जायेगा।

बॉलर बॉल करते हुए अगर नॉन स्ट्राइकर बैट्समैन क्रीज़ से बाहर है तो उसे एक वार्निंग देने के बाद रन आउट कर सकता है। इस तरह के रन आउट को मनकडिंग कहते है। ये नाम भारत के बॉलर वीनू मांकड़ के नाम पर रखा गया है जिन्होंने एक बार मैच में बिल ब्राउन को आउट किया था। 1877 से टेस्ट मैच में अभी तक सिर्फ 4% ही बैट्समैन ऐसे आउट हुए है।

IPL की Match Prediction के लिए क्लिक करे

8) Law 39: स्टंपिंग

अगर एक बैट्समैन क्रीज़ से बाहर निकल कर बॉल खेलने की कोशिश करता है। इस कोशिश में बॉल को मिस कर देता है और विकेट कीपर बॉल को पकड़ कर बैट्समैन के क्रीज़ में लौटने से पहले स्टंप को बिखेर देता है तो अंपायर उसे Stumped आउट करार करता है। ज्यादातर स्टंपिंग स्पिनर की बॉल पर ही होता है। 1877 से टेस्ट में अभी तक सिर्फ 2% खिलाड़ी ही स्टंप द्वारा आउट हुए है।

9) Law 40: टाइम आउट

किसी बैट्समैन के आउट हो जाने के बाद दूसरे बैट्समैन को क्रीज़ में आने के लिए ३ मिनट का टाइम दिया जाता है अगर बैट्समैन दिए गए टाइम के अंतराल में नहीं आ पता तो अंपायर उसे टाइम आउट कर देता है। ऐसा रूल सिर्फ समय को बचाने के लिए किया गया है। 1877 से अभी तक कोई भी बैट्समैन Timed out नहीं हुआ है। हालांकि फर्स्ट क्लास क्रिकेट में 5 बैट्समैन टाइम आउट हो चुके है।

10) हैंडेड दी बॉल:

जब एक बैट्समैन बॉल को विकेट पर लगने से बचाने के लिए अपने हाथो का इस्तेमाल करता है तो उसे आउट दिया जाता है। पर अब इस तरह का आउट भी ऑब्सट्रक्टिंग दी फील्ड की श्रेणी में आता है।

11) रिटायर्ड आउट:

जब एक बैट्समैन बैटिंग के दौरान चोटिल हो जाता है या ज्यादा थक जाता है और मैदान से बाहर चला जाता है तो उसे रिटायर्ड आउट माना जाता है।

Follow us

We will keep you updated